Ravi  Prakash  Verma(MP)

Click here to edit subtitle

News

view:  full / summary

My deep condolence towards earthquake victims in India and Nepal

Posted by [email protected] on April 30, 2015 at 7:40 AM Comments comments (0)

भूकम्प से मारे गए सभी लोगों को श्रन्धांजलि, ईश्वर से प्रार्थना है की इस दुखद समय में उनके परिजनों को सहनशक्ति दे|नेपाल और भारत में आये भीसण भूकम्प की वजह से हजारो लोग असमय काल के मुँह में समा गए और लाखो लोग बेघर हो गए | इस कठिन परिस्तिथि में भारत नेपाल को हर संभव सहायता प्रदान कर रहा है , ईश्वर से प्रार्थना है की पीड़ित साथियो को इस मुश्किल समय को सहने की शक्ति प्रदान करे | इस मुश्किल समय में भारत और भारतवासी पूरी तरह नेपाल के साथ है | NDRF और State Government के कर्मचारियों को सलाम जो इस आपदा में नेपाल जाकर इंसानियत की मदद कर रहे है |

जय हिन्द |


Direction For Indian Youth:

Posted by [email protected] on April 30, 2015 at 7:30 AM Comments comments (1)

भारत नेपाल के सीमावर्ती क्षेत्र के निवासियों को , पड़ोसी देश नेपाल की राजनितिक आर्थिक परिस्तिथियों तथा विकास सम्बन्धी आवश्यकताओं के प्रति एक संवेदनशील नजरिया तथा सूक्ष्म निगाह रखने की आवश्यकता है |

आजादी के बाद (वर्ष 1947 के बाद ) अबतक यह हो जाना चाहिए था की बड़े पैमाने पर साहसी भारतीय युवा ,चिकित्सक ,इंजीनियर, व्यापारी तथा अन्य कारोबारी पड़ोसी देशों (नेपाल ,चीन,बांग्लादेश ,श्रीलंका तथा अन्य देशों ) में जाकर बसते | शिक्षा ,चिकित्सा तथा वित्तीय संस्थान खड़े करते तथा मिशन मोड में कार्य करते हुए स्थानीय जन समुदाय की हमदर्दी हासिल करते | इस कार्य से भारत सरकार के कूटनीतिक प्रयासों को बल मिलता | आज की परिस्तिथि में ऐसा लग रहा है कि भारत सरकार के कूटनीतिक प्रयासों का असर उल्टा पड़ रहा है, विशेष तौर पर चीन तथा पाकिस्तान के सम्बन्ध में भारत अकेला पड़ चूका है |चीनी राष्ट्रपति कि पाकिस्तान यात्रा की सफलता तथा $46 बिलियन डॉलर (4600 करोड़ रुपये ) से निर्मित होने वाले "चीन पाकिस्तान आर्थिक कॉरिडोर" से भारत के समक्ष कड़ी रणनीतिक चुनौतियां खड़ी होने वाली है | मेरा मानना है की अब हिंदुस्तान के युवाओ को हालात का संज्ञान लेना चाहिए |


Rss_feed